Thursday, June 22, 2017

Cambodia - 5

The dances are not as great as Indian classical dances
but they are equally ornate.
Also, the dancers are called Apsara (meaning a divine nymph).


Saturday, June 17, 2017

Cambodia - 4

Another beautiful aspect of Cambodia is 
their art and craft work.
The range of artifacts and artisans in the workshop
and the details by the excellent English speaking guides
made us want to buy so many of their pieces.

Monday, June 12, 2017

Cambodia - 3

The Samudra-Manthan legend is so well-spread through the whole country,
you can find instances and references to that anywhere...
like we found it on a river bridge, where the railing is designed as
Devs on one side and Danavs on the other.

Wednesday, June 7, 2017

Cambodia - 2

Cambodia has had a history of communist violence and a civil-war. 
As a result, you would find such groups in many places - 
people who have lost limbs in landmine blasts.
Now, they play music, sell CDs, and 
advocate the cause of landmine ban. 
It was tragic, horrific, and angering all at the same time. 
And yet, typical to Cambodia, they bore their wounds with much laughter and spread joy.

Saturday, June 3, 2017

Cambodia - 1

Outside India, I absolutely loved Cambodia. 
It is a beautiful country - clean, safe, sweet, and 
full of range of amusements like nowhere else...

June is the month to recall some good clicks from Cambodia!!


Wednesday, May 31, 2017

जॉन एलिया की मई : बोझ

बस फाइलों का बोझ उठाया करें जनाब,
मिसरा ये "जौन" का है इसे मत उठाइए


Thursday, May 25, 2017

जॉन एलिया की मई : सोगनशीं

पत्ते बनकर ऐसा बिखरा वक़्त की पागल आंधी में 
आज मै अपना सोगनशीं हूँ गंगाजी और जमुनाजी


Friday, May 19, 2017

जॉन एलिया की मई : नाम

मैं तो अब शहर में कहीं भी नहीं
क्या मेरा नाम भी लिखा है कहीं 



Friday, May 12, 2017

जॉन एलिया की मई : धतूरा

ग़म न होता जो खिल के मुरझाते,
ग़म तो ये है कि हम खिले भी कहाँ


Sunday, May 7, 2017

जॉन एलिया की मई : खँडहर

लू चल रही है, महव है अपने में दोपहर
ख़ाक उड़ रही है और खँडहर खैरियत से है


Wednesday, May 3, 2017

जॉन एलिया की मई : जान

रूठा था तुझ से यानी खुद अपनी ख़ुशी से मैं 
फिर उसके बाद जान, न रूठा किसी से मैं 


Friday, April 28, 2017

एक बूँद


ज्यों निकल कर बादलों की गोद से।
थी अभी एक बूँद कुछ आगे बढ़ी।।
सोचने फिर फिर यही जी में लगी।
आह क्यों घर छोड़कर मैं यों बढ़ी।।


दैव मेरे भाग्य में क्या है बढ़ा।
में बचूँगी या मिलूँगी धूल में।।
या जलूँगी गिर अंगारे पर किसी।
चू पडूँगी या कमल के फूल में।।


बह गयी उस काल एक ऐसी हवा।
वह समुन्दर ओर आई अनमनी।।
एक सुन्दर सीप का मुँह था खुला।
वह उसी में जा पड़ी मोती बनी।।



लोग यों ही है झिझकते, सोचते।
जबकि उनको छोड़ना पड़ता है घर।।
किन्तु घर का छोड़ना अक्सर उन्हें।
बूँद लौं कुछ और ही देता है कर।।
- अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

Friday, April 21, 2017

मोरा पिया मोसे बोलत नाही


Indian Roller, also known as नीलकंठ.
Clicked at Asian Institute of Technology 
Bangkok Thailand / September 2016